Monday, 15 July 2019

लोकसभा में अमित शाह ने ओबैसी से कहा-आपके मन में डर है तो हम क्या करें।

लोकसभा में अमित शाह ने ओबैसी से कहा-आपके मन में डर है तो हम क्या करें।
सरकार आम नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी।

========

15 जुलाई को लोकसभा में केन्द्रीय गृहमंत्री अमितशाह ने दो टूक शब्दों में कहा कि सरकार आम नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी। असल में एनआईए के नियमों में संशोधन के लिए लोकसभा में बिल प्रस्तुत किया गया है। बिल पर जब भाजपा के सांसद सत्यपाल मलिक सरकार का पक्ष रख रहे थे तब एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओबैसी बीच में बीच में टोका टाकी कर रहे थे, ओबैसी के इस रवैये पर केन्द्रीय गृहमंत्री अमितशाह खड़े हुए और ओबैसी से कहा कि आपके मन में डर है तो हम क्या कर सकते हैं। आपको बिल के बारे में धैर्य से सुनना चाहिए। सरकार  का प्रयास है कि राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी एनआईए को मजबूत किया जाए ताकि अपराध होने पर आपराधियों को पकड़ा जा सके। शाह ने नाराजगी भरे लहजे से कहा कि विपक्ष को बिल के प्रावधानों के बारे में अच्छी तरह समझना चाहिए। पिछले कुछ वर्षों से देशभर में आतंक की जो वारदातें हो रही हैं उसमें विदेशी तत्वों का भी हाथ सामने आया है। कई बार अपराधी विभिन्न राज्यों में रह कर अपराध की योजनाएं बनाते हैं। ऐसे में एनआईए को मजबूत किए जाने की जरूरत है। सरकार इसीलिए एनआईए के कानून में संशोधन का प्रस्ताव लाई है। विभिन्न घटनाओं में एनआईए की जांच लगातार महत्वपूर्ण हो रही है। लेकिन कई अवसरों पर देखा गया है कि कुछ राज्य सरकारें जांच में सहयोग नहीं करती हैं। ऐसे में एनआईए को विशेष अधिकार मिलने ही चाहिए। 15 जुलाई को लोकसभा में अमितशाह ने जो तल्खी दिखाई उससे एक बार तो पूरा विपक्ष भी सक्ते में आ गया, लेकिन वहीं भाजपा के सांसदों ने अमितशाह के रुख का समर्थन किया। 
एस.पी.मित्तल) (15-07-19)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
===========

पुलिस थाने में सीआई सहित छह पुलिस कर्मियों ने दलित महिला के साथ बलात्कार किया।

पुलिस थाने में सीआई सहित छह पुलिस कर्मियों ने दलित महिला के साथ बलात्कार किया। प्लास से पैर के नाखून तक उखाड़े। यह तो राजस्थान पुलिस का घिनौना चेहरा है। मुख्यमंत्री गहलोत के पास ही है गृह विभाग। 
======================

एक दलित महिला का आरोप है कि तीन जुलाई को चार-पांच पुलिस वाले घर आए और जबरन उठा कर चूरू जिले के सरदार शहर पुलिस स्टेशन पर ले गए। पहले पुलिस वालों ने पट्टों से बुरी तरह पीटा और फिर एक महिला सिपाही के जरिए शरीर के सारे कपड़े उतरवा दिए। बाद में सीआई रणवीर सिंह सहित छह पुलिस कर्मियों ने बारी बारी से बलात्कार किया। पिटाई के दौरान ही प्लास से पैर के नाखून तक उखाड़े गए। दो दिन पहले देवर को भी चोरी के आरोप में पकड़ा गया था। पीडि़ता का आरोप है कि थाने पर ही देवर को फांसी पर लटका कर मार डाला गया। थाने पर देवर की मौत के बाद पुलिस में हड़कंप मचा है। लेकिन सवाल उठता है कि आखिर हर बार राजस्थान पुलिस का घिनौना चेहरा सामने क्यों आता है? थाने में गैंगरेप की शिकार पीडि़ता का दर्द बताता है कि महिला पुलिस कर्मी भी पुरुष पुलिस कर्मी से पीछे नहीं है। महिला पुलिस कर्मियों को थाने पर इसलिए तैनात किया गया, ताकि महिलाओं के साथ सद्व्यवहार हो, लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि महिला पुलिस कर्मी ज्यादा अत्याचारी हो रही हैं। जब कोई महिला पुलिसकर्मी थाने में बंद बेबस महिला के कपड़े उतरवाने का काम करेगी तो फिर थाने के हालातों का अंदाजा लगाया जा सकता है। राजस्थान में सरदार शहर जैसी घटनाएं आए दिन हो रही हैं। यह माना कि राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत का ज्यादा समय इन दिनों दिल्ली में व्यतीत हो रहा है। उन्हें अपने प्रदेश की जनता से ज्यादा कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी के भविष्य की चिंता है। गहलोत कांग्रेस की राष्ट्रीय राजनीति में भी सक्रिय हैं और अब ऐसा अध्यक्ष चाहते हैं तो गांधी परिवार के इशारे पर ही काम करें। गहलोत की पार्टी के प्रति वफादारी पर किसी को ऐतराज नहीं है, लेकिन गहलोत को थोड़ी चिंता प्रदेश की जनता की भी करनी चाहिए। गहलोत ने गृह विभाग अपने ही पास रखा है, ऐसे में सरदार शहर पुलिस थाने पर हत्या और गैंगरेप की जो वारदात हुई है उसकी सीधी जिम्मेदारी मुख्यमंत्री की ही है। भाजपा के राज में जब ऐसी घटनाएं होती थीं तो गहलोत सीधे मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को जिम्मेदार ठहराते थे, लेकिन अब जब स्वयं के शासन में ऐसी घटनाएं हो रही हैं तो गहलोत चुप हैं। पिछले दिनों जब भूपेन्द्र यादव को प्रदेश का डीजीपी बनाया गया था, तब मीडिया के तारीफ करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, लेकिन अब यादव की भी कोई प्रभावी भूमिका नजर नहीं आ रही है। असल में सरकार की मजबूती का असर प्रशासन पर पड़ता है। इन दिनों प्रदेश में जिस तरह कांग्रेस की सरकार चल रही है उसमें मजबूती नजर नहीं आती है। सरदार शहर प्रकरण में सरकार को सख्त कार्यवाही करनी चाहिए। 
एस.पी.मित्तल) (15-07-19)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
===========

अजमेर में दसवीं पास महिलाएं बन सकती हैं ड्रेस डिजाइनर।

अजमेर में दसवीं पास महिलाएं बन सकती हैं ड्रेस डिजाइनर।
दयालबाग एज्युकेशनल इंस्टीट्यूट की पहल।

===============

अजमेर में अब दसवीं पास महिलाएं भी ड्रेस डिजाइनर बन सकती है। इसके लिए दयाल बाग एज्युकेशनल इंस्टीट्यूट की ओर से माकड़वाली रोड स्थित डीईआई स्टडी सेंटर पर ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स शुरू किया जा रहा है। स्टडी सेंटर के दिनेश माथुर ने बताया कि प्रात: 9 से 11 और सायं 6 से 8 बजे के बीच प्रवेश फार्म स्टडी सेंटर पर उपलब्ध रहेंगे। इच्छुक महिलाएं 20 जुलाई तक आवेदन कर सकती हैं। उन्होंने बताया कि संस्था के डीईआई के अंतर्गत मूल्यआधारित शिक्षा प्रणाली अपनाई जा रही है जिसमें शारीरिक परिश्रम, सेवा एवं ईमनदारी की कमाई पर आश्रित रहना सिखाया जाता है। धर्म और शिक्षा का धेय एक ही है और बिना आध्यात्मिक उन्नति के शिक्षा अधूरी है। यह आवश्यक है कि शिक्षा प्राप्त कर व्यक्ति शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक रूप से विकसित हो। मानवता की व्यवहारिकता एवं प्रजातंत्र के गुणों के समावेश से ही व्यक्ति समाज की अपेक्षाओं पर खरा उतरता है। दयाल बाग एज्युकेशनल इंस्टीट्यूट के कोर्सेज में महिलाओं को न केवल आत्मनिर्भर बनाया जाता है बल्कि समाज में सकारात्मक भूमिका निभाने की प्रेरणा भी दी जाती है। ड्रेस डिजाइनिंग के कोर्स के बारे में और अधिक जानकारी मोबाइल नम्बर 9828052749 पर दिनेश माथुर से ली जा सकती है। 
एस.पी.मित्तल) (15-07-19)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
===========

74 वर्षीय जैन आचार्य विद्यासागर महाराज ने मुनि सुधासागर और मुनि नियमसागर को निर्यापक श्रमण का दायित्व सौंपा।



74 वर्षीय जैन आचार्य विद्यासागर महाराज ने मुनि सुधासागर और मुनि नियमसागर को निर्यापक श्रमण का दायित्व सौंपा। विद्यासागर जी ने 52 वर्ष पहले अजमेर में ली थी दीक्षा।
============


देश के दिगम्बर जैन समाज में अति सम्माननीय और पूजनीय विद्यासागर महाराज मध्यप्रदेश के देवास जिले के नेमावर स्थित सिद्धक्षेत्र सिद्धोदय में चातुर्मास कर रहे हैं। 14 जुलाई को चातुर्मास स्थापना महोत्सव में आचार्य विद्यासागर जी ने मुनि सुधासागर और मुनि नियमसागर को निर्यापक श्रमण का दायित्व सौंपने की घोषणा की। इस दायित्व के मिलने के साथ ही अब ये दोनों मुनि किसी जैन साधु-संत अथवा श्रावक की समाधि करवा सकते हैं। इतना ही नहीं संघ के साधुओं को प्रायश्चित आदि देने का अधिकार भी मिल गया है।  जैन धर्म में निर्यापक श्रमण का विशेष महत्व है। आचार्य विद्यासगर अब तक 300 से भी ज्यादा मुनि और आर्यिका को दीक्षा दे चुके हैं, लेकिन निर्यापक का दायित्व पात्र चार मुनियों को ही सौंपा गया है। कई बार श्रावक भी लम्बी बीमारी या अन्य कारणों से संथारा ग्रहण करते हैं। इसे मृत्यु का उत्सव भी कहा जाता है। श्रावक की मृत्यु बगैर कष्ट के हो जाए इसमें निर्यापक श्रमण का दायित्व निभाने वाली जैन मुनि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वर्तमान में विद्यासागर महाराज जैन धर्म में अकेले ऐसे मुनिराज हैं जिनकी दीक्षा के 52 वर्ष पूरे हो गए हैं। उन्हें 1967 में अजमेर के महावीर सर्किल के निकट ही दीक्षा ग्रहण की थी। इसे एक संयोग ही कहा जाएगा कि विद्यासागर महाराज के शिष्य सुधासागर महाराज ने अजमेर में ही नारेली में अतिशय तीर्थ स्थल विकसित किया। आज नारेली तीर्थ देश में चुनिंदा जैन तीर्थ स्थलों में से एक है। इस स्थल को भव्य बनाने में आरके मार्बल ग्रुप के चेयरमैन अशोक पाटनी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। पाटनी परिवार का हर बार प्रयास होता है कि आचार्य विद्यासागर महाराज नारेली तीर्थ में आकर चातुर्मास करें। हालांकि अजमेर और नारेली में चातुर्मास को लेकर आचार्य ने कोई जवाब नहीं दिया है, लेकिन माना जा रहा है कि उचित समय पर ही आचार्य विद्यासागर अजमेर आएंगे। मुनि सुधासागर महाराज इन दिनों भीलवाड़ा के बिजौलिया में चातुर्मास कर रहे हैं। निर्यापक श्रमण का दायित्व मिलने पर मुनि सुधासागर के अनुयाइयों में उत्साह का महौल है। इस संबंध में और अधिक जानकारी मोबाइल नम्बर 9929004811 पर जैन धर्म के जानकार पदम जैन से ली जा सकती है। 
एस.पी.मित्तल) (15-07-19)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
===========

Sunday, 14 July 2019

आईएफडब्ल्यूजे का अजमेर संभाग का सम्मेलन 28 जुलाई को किशनगढ़ में।



आईएफडब्ल्यूजे का अजमेर संभाग का सम्मेलन 28 जुलाई को किशनगढ़ में।
पत्रकारों की समस्याओं को उठाया जाएगा।
=============

इंडियन फैडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट (आईएफडब्ल्यूजे) का संभाग स्तरीय सम्मेलन आगामी 28 जुलाई को अजमेर के किशनगढ़ में होगा। जिला अध्यक्ष मनवीर सिंह चूंडावत ने बताया कि सम्मेलन में करीब चार सौ पत्रकार भाग लेंगे। सम्मेलन किशनगढ़ के आरके कम्यूनिटी सेंटर के सभागार में होगा। 14 जुलाई को संस्था के अध्यक्ष उपेन्द्र ङ्क्षसह राठौड़ ने अजमेर और किशनगढ़ के पत्रकारों से संवाद कर सम्मेलन की तैयारियों का जायजा लिया। सम्मेलन में पत्रकारों की विभिन्न समस्याओं पर विचार विमर्श किया जाएगा। राजस्थान में पत्रकारों को अपेक्षित सुविधाएं नहीं मिल रही है, जिन से पत्रकारों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कई संस्थान अपने कर्मचारियों को निर्धारित वेतनमान भी नहीं दे रहे हैं। स्थाई कर्मचारियों के बजाए अनुबंध पर पत्रकारों को रखा जा रहा है। जिससे पत्रकारों के हितों पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। राठौड़ ने कहा कि इन सभी मुद्दों पर सम्मेलन में विचार विमर्श होगा। संस्थान की ओर से 13 सूत्रीय मांग पत्र तैयार किया गया है। सम्मेलन मेंसरकार के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जा रहा है। सम्मेलन के संबंध में और अधिक जानकारी मोबाइल नम्बर 7412029005 पर मनवीर सिंह से ली जा सकती है। 
पत्रकारों की क्रिकेट प्रतियोगिता:
14 जुलाई से अजमेर के मेयो कॉलेज पर इंटर मीडिया क्रिकेट चैम्पियनशीप भी शुरू हुई। इस चैम्पियनशीप में दैनिक भास्कर, दैनिक नवज्योति, पत्रकार 11 और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की टीमें भाग ले रही हैं। आज पत्रकार 11 और भास्कर की टीम के बीच मैच हुआ, जिसमें भास्कर की टीम विजेता रही। इसी प्रकार दूसरे मैच में नवज्योति की टीम ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की टीम को हराया। 21 और 28 जुलाई को भी चैम्पियनशीप के मैच आयोजित होंगे। 
एस.पी.मित्तल) (14-07-19)
नोट: फोटो मेरी वेबसाइट www.spmittal.in
https://play.google.com/store/apps/details? id=com.spmittal
www.facebook.com/SPMittalblog
Blog:- spmittalblogspot.in
M-09829071511 (सिर्फ संवाद के लिए)
===========